Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna

Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna | झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना ऑनलाइन आवेदन | Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna Form | मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना रजिस्ट्रेशन

Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna

झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना का शुभाआरम्भ झारखण्ड सरकार कर रही है.

इस योजना में इस वक्त चल रहे कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉक डाउन में देश के कोने कोने से लौटे प्रवासी मजदूरों को रोजगार मुहैया कराने के लिए इस योजना की शुरुआत की गयी है.

झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना को उन बेरोजगार बैठे लोगों को सीधा लाभ पहुंचाएगा.

इस योजना के शुरू होने से कोरोना संकट के कारण उत्पन्न हुए आर्थिक, सामाजिक व्यवस्था को फिर से पटरी पर लाया जा सकेगा.

आपको बता दें की झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के जैसे ही इस योजना में श्रमिकों को रोजगार की गारंटी दी जाएगी.

योजना का खाका इस प्रकार बनाया गया है इसमें शहरों में रहने वाले 18 वर्ष से ज्यादा आयु के श्रमिकों को एक वित्तीय बर्ष में लगभग 100 दिन की रोजगार गारंटी देना का प्रावधान है.

यदि किसी श्रमिक मजदूर को आवेदन करने के 15 दिन के अन्दर काम नहीं मिल पाता है तो उसे बेरोजगारी भत्ता दिया जायेगा.

Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna के 10 प्रमुख बातें

1) इस योजना में झारखण्ड के ऐसे श्रमिक शामिल होंगें जो शहरी क्षेत्रो में वापस आये प्रवासी मजदूरों हो उनको रोजगार के अवसर उपलब्ध कराया जायेगा.

2) झारखण्ड के अकुशल मजदूर जो शहरी क्षेत्र रहते हैं, उन्हें 100 दिन की रोजगार की गारंटी दी जाएगी. यह योजना मनरेगा योजना की तरह लोगों को एक साल में 100 दिन का काम देगी.

3) इस योजना के तहत अगर किसी मजदूर को रोजगार नहीं मिल पाया तो उन्हें राज्य सरकार द्वारा बेरोजगारी भत्ता प्रदान किया जायेगा.

4) झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना के तहत प्रवासी मजदूरों को जॉब कार्ड प्रदान किया जायेगा.

5) नगर विकास एवं आवास विभाग द्वारा ये योजना, राज्य शहरी आजीविका मिशन के माध्यम से संचालित करायी जाएगी.

6) इस योजना के तहत झारखंड के शहरों में निवास करनेवाले 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के अकुशल श्रमिकों को एक वित्तीय वर्ष में 100 दिनों के रोजगार की गारंटी मिलेगी.

7) अगर कोई शहरी स्थानीय निकाय 15 दिनों के भीतर नौकरी चाहने वालों को काम देने में विफल रहता है। इसके अलावा, पंजीकृत (पंजीकृत) लाभार्थियों को जॉब कार्ड प्रदान किए जाएंगे.

8) झारखंड मुख्यमंत्री गरीब रोजगार योजना 2020 के लिए, प्रत्येक प्रवासी मजदूरों को ऑनलाइन / ऑफ़लाइन विधि के माध्यम से नौकरी के लिए आवेदन करना होगा.

9) सभी शहरी स्थानीय निकायों (ULB) को प्रवासी श्रमिकों के रोजगार के लिए विशेष योजना बनाने के लिए अलग से धन दिया जाएगा। सीएम ने कहा कि “स्वच्छता कार्यों से लेकर विकास परियोजनाओं तक शहरी क्षेत्रों में नौकरियों के बहुत सारे अवसर हैं.

10) मजदूरों को पहले महीने भत्ता के रूप में न्यूनतम मजदूरी का एक चौथाई भाग दे दिया जायेगा. 60 दिन हो जाने के बाद आधी मजदूरी उसे दे दी जाएगी। फिर पूरे 100 दिन हो जाने के बाद श्रमिक को पूरे 100 दिन की मजदूरी भत्ता के रूप में प्राप्त हो जाएगी.

Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna के लिए योग्यता

1) इस योजना में आवेदन करने वाला व्यक्ति झारखण्ड का स्थायी निवासी होना आवश्यक है. इसके अलावे वह 1 अप्रैल 2015 से शहरी क्षेत्रों में रहना चाहिए.

2) Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojana के तहत आवेदक की आयु 18 वर्ष और उससे अधिक होनी चाहिए.

3) ग्रामीण क्षेत्रों में आवेदक के पास मनरेगा कार्ड नहीं होना चाहिए.

4) दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी, सरकारी आश्रय में रहकर, पिछले तीन वर्षों से नई योजना के लिए पात्र होंगे.

Jharkhand Mukhyamantri Shramik Rojgar Yojna आवेदन कैसे करें?

झारखण्ड राज्य के विभिन्न प्रदेशों से वापस आये प्रवासी मजदूर इस योजना का सीधा लाभ उठाने के लिए यदि वो आवेदन करना चाहते हैं तो अभी कुछ दिन इंतज़ार काना पड़ेगा.

ऐसा इसलिए की झारखण्ड सरकार ने झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना की घोषणा की है.

अभी इसे पटल पर शुरू नहीं किया गया है योजना के आरम्भ होने के बाद झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना में आवेदन किया जा सकेगा.

जैसे ही झारखण्ड सरकार द्वाराआवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी हम आपको कैसे करें Shramik Rojgar Yojna में आवेदन इसकी पूरी जानकारी देंगे.

झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना का मुख्य उद्देश्य

आप सबको पता ही है की भारत देश में कोरोना वायरस का संक्रमण दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, जिसकी वजह से लॉक डाउन कि स्थिति भी बढ़ती जा रही है.

लॉक डाउन कि वजह से झारखण्ड राज्य के जो मजदूरों काम कि वजह से दूसरे राज्य में फसे हुए थे.

वह वापस अपने घर आ चुके है लेकिन उनके पास अपने आजीविका के लिए कोई रोजगार नहीं है.

इस सभी परेशानियों को देखते हुए झारखण्ड सरकार ने झारखण्ड मुख्यमंत्री श्रमिक रोजगार योजना को शुरू करने का फैसला लिया है.

Shramik Rojgar Yojna के द्वारा झारखण्ड के शहरी क्षेत्र में वापस आये प्रवासी मजदुर जिनके पास कोई रोजगार नहीं है.

उन्हें सरकार द्वारा रोजगार मुहैया कराना जिससे वह अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर सके.

झारखण्ड सरकार का मुख्या उद्देश्य सभी प्रवासी श्रमिकों को अपने राज्यों में रोजगार मिले

Amitesh Raj

नमस्कार दोस्तों, मैं Mr. Amitesh Bedia, Hintwebs वेबसाइट का ओनर और ऑथर भी हूँ, मुझे किसी भी तरह की जानकारी साझा करना बहुत अच्छा लगता है, चाहे वो टेक्नोलॉजी से जुड़ी हो या नॉलेज की बातें या फिर इन्टरनेट से जुड़ी कोई बात हो सिखने और दूसरों को इसे जुड़ी समस्याओं को दूर करना ही मेरा लक्ष्य है.