चकबंदी क्या है? Chakbandi Kya Hai

Chakbandi Kya Hai

चकबंदी क्या है? Chakbandi Kya Hai

चकबंदी क्या है? Chakbandi Kya Hai: यह दो शब्दों से बना है चक और बंदी चक का मतलब होता है बड़ा खेत या छोटा खेत और बंदी का मतलब है उस खेत को बंदोबस्त करना होता है यानि की चको (खेतों) की बंदी करना.

आसान भाषा में कहें तो एक व्यक्ति के छोटे-छोटे के टुकड़े अलग-अलग जगह पर हैं और दूर-दूर हैं तो उन्हें एक साथ मिला देना ही चकबंदी कहलाता है.

यानि की जब चकबंदी होती है तो किसी व्यक्ति का जमीन चार अलग अलग जगह पर है उससे एक ही जगह पर चारों जमीन को मिला के एक बना दिया जाता है.

मान लीजिये की लीलू की जमीन एक जगह की जमीन के सामने रिझु की जमीन है और जो लीलू की बाकी की जमीन किसी दुसरे स्थान पर है.

अब लीलू की सामने वाली रिझु की जमीन को लीलू को दे दिया जाता है और दुसरे जगह पर लीलू की जो जमीन है उसे रिझु को दे सी जाएगी.

इसे भी पढ़ें: Jameen Napne Wala App

ऐसे में लीलू और रिझु की सारी जमीन जगह पर हो जाएगी इसी को चकबंदी कहते हैं.

चकबंदी का काम कौन करता है?

गाँव के खेतों से संबधित सभी काम करने के लिए सरकार दो प्रकार के लेखपाल को नियुक्त करती है.

  1. राजस्व लेखपाल
  2. चकबंदी लेखपाल

राजस्व लेखपाल जिला अधिकारी के अंडर में काम करता है, इसका सबसे बड़ा अधिकारी जिला अधिकारी ही होता है.

राजस्व लेखपाल की नियक्ति उसी जिले में होती है जिस जिला अधिकारी के अधीन उसी जिले में उसका ट्रान्सफर होगा किसी दुसरे जिले में नहीं जा सकता.

चकबंदी लेखपाल चकबंदी आयुक्त के अंडर काम करता है, इसका सबसे बड़ा अधिकारी चकबंदी आयुक्त ही होता है.

चकबंदी लेखपाल की नियुक्ति पुरे राज्य में कहीं भी हो सकती है.

राजस्व लेखपाल के काम

राजस्व लेखपाल खसरा, खतौनी, खेतों की माप, जोत वही ये सब का रखरखाव करता है. खेतों में तीन बार जाकर के सूची बनता है की कौन सी फसल बोई गयी, कितनी फसल बर्बाद हो गयी आंधी तूफान में ये सब राजस्व लेखपाल का काम है.

चकबंदी लेखपाल के काम

चकबंदी लेखपाल का काम तभी लगता है जब सरकार चकबंदी करवाती है यानि की छोटे-छोटे खेत के टुकड़ों को एक जगह पर इकठा करके एक व्यक्ति को दे दिया जाता है. सरकार के सबसे निचले स्तर पर ये सब काम चकबंदी लेखपाल ही करता है.

चकबंदी के फायदे क्या-क्या हैं?

किसानों को अलग-अलग जगहों पर खेत होने से काफी परेशानी होती है खेत एक जगह पर मिल जाने से उन्हें फायदा होता है.

समय की बर्बादी होती है दूर दूर खेत होने के कारण उसको खेती करने के लिए ज्यादा समय लग जाता है.

छोटे-छोटे खेत होने की वजह से किसान आधुनिक मशीन से खेती नहीं कर पाते हैं क्योकि वो मशीन बड़े खेतों में अच्छी तरह से काम कर सकते हैं.

फसल की देखरेख में भी काफी आसानी हो जाती है क्योंकि सारी जमीन एक ही जगह पर होती है किसान को दुसरे-दुसरे जगह पर नहीं जानी पड़ती है.

इसे भी पढ़ें: Bharat Mein Kitne Rajya Hain

एक जगह पर बड़ा खेत हो जाने से किसान का खेत का माप भी बढ़ जाता है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि छोटे खेत को जब बड़े खेत में चकबंदी द्वारा बदला जाता है तो बीच के मेढ हट जाते है जिसकी वजह से कछु हद तक खेत का आकार बड़ा हो जाता है.

चकबंदी से खेतों में सिंचाई की व्यवस्था अच्छी तरह से की जा सकेगी, अब तक दूर-दूर में खेत होने की वजह से सिंचाई की व्यवस्था नहीं हो पाती थी अब खेतों की चकबंदी होने से फसलों में सिंचाई हो पायेगी.

इसे भी पढ़ें: Bharat Ka Kshetrafal Kitna Hai

सरकार जब चकबंदी करवाती है तो किसान से थोड़ी-थोड़ी जमीन ले लेती है और उस जमीन का उपयोग सार्वजानिक काम के लिए उपयोग किया जाता हैं जैसे स्कूल का निर्माण, खेल का मैदान बनाना या सरकारी अस्पताल बनाना इत्यादि सार्वजानिक काम होते हैं. जिसे लोगों को ही फायदा होता है.

चकबंदी का काम कैसे किया जाता है

जब भी किसी क्षेत्र में चकबंदी करनी हो तो चकबंदी आयुक्त एक चकबंदी अधिकारी नियुक्त करता है.

वो चकबंदी अधिकारी उस गाँव में जाकर एक चकबंदी समिति बनाता है, समिति के लोग उसी गाँव के होते हैं और उन लोगों के पास उस जमीन के बारे में पूरी जानकारी होती है.

इसे भी पढ़ें:

Bharat Desh ke Kitne Naam Hai

1 डिसमिल में कितने वर्ग फुट होते है?

उसके बाद जिसका जमीन है उनसे पूछा जाता है यदि उनकी सहमती मिल जाती है तो काम शुरू किया जाता है.

गाँव में सर्वे कराया जाता है और प्रत्येक जगहों की जमीन की कीमत निकाली जाती है उस निर्धारित कीमत के आधार पर एक दुसरे को जमीन अदला-बदली की जाती है.

चकबंदी के नियम pdf

यदि आप चकबंदी के नियम को और भी विस्तार से जानना चाहते हैं तो आप नीचे लिए गए लिंक से चकबंदी के नियम pdf में डाउनलोड कर सकते हैं.

Chakbandi Ke Niyam PDF

महत्वपूर्ण माप

1 हेक्टेयर = 10000 वर्ग मीटर = 2.47 एकड़
1 एकड़ = 6 बीघा ( राजस्थान, गुजरात और उत्तराखंड के कुछ स्थानों में प्रचलित)
1 कच्चा बीघा = 17424 sq फीट = 1618.74 वर्ग मीटर
1 एकड़ = 4 बीघा ( उत्तर प्रदेश पंजाब और राजस्थान)
एक पक्का बीघा = 27225 sq फीट = 2529.28 वर्ग मीटर
1 बीघा = 20 बिस्वा
एक डिसमिल = 40.46 वर्ग मीटर।

निष्कर्ष

चकबंदी का नकारात्मक प्रभाव तभी पड़ सकता है, जब भू-राजस्व विभाग के कर्मचारी रिश्वत खोर होंगे या फिर अनुभव की कमी होगी.

दूसरी तरफ ताकतवर समूह या जमीदार अपने बल पर और धन का गलत प्रयोग करके छोटे व गरीब किसानों को दबाने की कोशिश करते हैं.

विकास की दृष्टि से चकबंदी अति महत्वपूर्ण है, इससे देश में राष्ट्रीय आय वृद्धि होगी और जो छोटी जूतों से परेशान किसान हैं उनका पलायन शहर की तरफ रुकेगा.

साथ ही साथ रोजगार में वृद्धि होगी और प्रच्छन्न बेरोजगारी मैं कमी आएगी. किसान की आय को दोगुना करने का चकबंदी भी एक उत्तम उपाय साबित हो सकता है. यदि इसे पूर्ण तरह ईमानदारी के साथ लागू किया जाए.

Amitesh Raj

नमस्कार दोस्तों, मैं Mr. Amitesh Bedia, Hintwebs वेबसाइट का ओनर और ऑथर भी हूँ, मुझे किसी भी तरह की जानकारी साझा करना बहुत अच्छा लगता है, चाहे वो टेक्नोलॉजी से जुड़ी हो या नॉलेज की बातें या फिर इन्टरनेट से जुड़ी कोई बात हो सिखने और दूसरों को इसे जुड़ी समस्याओं को दूर करना ही मेरा लक्ष्य है.